Menu

2017 में टॉप शीर्ष 10 पेसेंजर यात्री वाहनों की बिक्री Maruti Suzuki का रहा दबदबा

साल 2017 देश में बहुत से बदलाव हुए ,जिसके कारण कुछ कंपनियों को नुकसान हुआ तो कुछ को फायदा। अगर भारत के कार निर्माता कंपनियों की बात की जाए तो मारुति सुजुकी देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी के रूप में जानी जाती है। इसे देश की सबसे ज्यादा भरोसेमंद कार निर्माता के रुप  में बहुत ज्यादा पसंद किया जाता हैइस बात का उदाहरण हम साल 2017 में पैसेंजर व्हीकल की बिकने वाली टॉप 10 गाड़ियों की सूची में टॉप 5 कार्स में मारुति सुजुकी की 7 गाड़ियों का नाम आने के कारण पता लग जाता है कि कंपनी ने किस कदर अपना जलवा कार मार्केट में बनाए रखा है।

साल 2017 की पेसेंजर व्हीक्ल की इस सूची में मारुति की आल्टो ने वर्ष 2017 में 2,57,732 यूनिट की बिक्री कर पहली पोजिशन पाई है, जिसके बाद कंपनी की डिजायर, बलेनो, स्विफ्ट औरवैगन -  आर ने अपना स्थान बनाया।  इसके साथ ही कंपनी की एसयूवी सेगमेंट में विटारा ब्रेज़ा और स्मॉल सेंगमेंट में  सेलेरियो ने भी अपनी जगह इस सूची में बनाई और बाकी बची तीन जगहों पर देश की दूसरे न0 की कार  हुंडई ने अपना स्थान बनाए रखा है। आपको बता दें कि मारुति सुजुकी की मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी गुजरात में लगने से कंपनी की कार उत्पादन क्षमता बहुत बढ़ गयी है, जिसके परिणाम स्वरुप यह हुआ कि कंपनी की हैचबैक कार बलेनो की सेल 64 प्रतिशत से  बढ़कर 1,75,209 यूनिट तक पहुँच गयी।

इसके साथ ही कंपनी की एसयूवी विटारा ब्रेज़्ज़ा की सेल्स में भी बढ़ोतरी देखने को मिली, जिसमें इसकी बिक्री 65.5 प्रतिशत बढ़ कर 1,40,945 यूनिट तक पहुँच गयी। हालांकि कंपनी की हैचबैक कार स्विफ्ट में थोड़ी कमी देखने को मिली और इसकी सेल 0.7 प्रतिशत कम होकर 1,67,371 यूनिट रहीआने वाले समय में कंपनी स्विफ्ट का नया जेनरेशन लॉन्च करने वाली है, जिसके कारण इसकी सेल बढ़ सकती है।

इस सूची के जारी होने के बाद इस बारे में ऑटोमेटिव फोरकास्टिंग के अस्सोसीएट डायरेक्टर पुनीत गुप्ता का कहना है कि , भारतीय कार मार्केट से जनरल मोटर्स के बाहर निकलने के बाद से भारतीय कार खरीदार सतर्क हो गए है और अब भविष्य के जोखिम को कम करने के लिए वह बड़े ब्रांडों को ही अधिक पसंद करते है। उनका कहना है कि " एक कार भारतीय घर में दूसरी सबसे बड़ी संपत्ति है (घर के बाद) और  खरीदार के लिए ब्रांड की विश्वसनीयता और बिक्री के बाद बिक्री-लागत वाली सेवा अधिक महत्वपूर्ण हो गई है इसलिए वे अब मारुति सुजुकी और हुंडई जैसे परीक्षण किए गए बड़े ब्रांडों का चयन कर रहे हैं। "

वहीं अगर इस सूची की दूसरी कार निर्माता कंपनी हुंडई की बात करें तो हुंडई की ग्रैंड आई 10, इलाइट आई 20 और स्पोर्टी व्हीकल क्रेटा ने इस टॉप 10 की सूची में अपना स्थान बनाया है। 'ग्रैंड आई 10' की बिक्री 2016 के मुकाबले 13.6 प्रतिशत बढ़कर 1,54,746 यूनिट तक पहुँच गयी वहीं हुंडई की 'एलीट आई 20' 13.9 प्रतिशत बढ़कर 1,16,260 यूनिट और क्रेटा की बिक्री 13.5 प्रतिशत बढ़कर 1,05,485  तक पहुँच गयी।

हुंडई मोटर इंडिया के सेल्स और मार्केटिंग के डायरेक्टर राकेश श्रीवास्तव ने कहा कि उन्हें विशवास  था, कि 2018 में डोमेस्टिक बिक्री में 5-6% बढ़ोतरी होकर यह 5,50,000 इकाइयों तक पहुँच जाएगी। हालांकि इस कोरियाई कंपनी की स्थानीय इकाई ने पिछले साल 5,27,930 कार और एसयूवी बेची थी, जो उनके अनुमान के बहुत करीब थी।

वर्ष 2017 में मारुति सुजुकी ने भारत में सभी कार निर्माता कंपनियों को पीछे छोड़ते हुए अपनी सेल्स में 14.9 प्रतिशत की वृद्धि कर 16,02,522 यूनिट की बिक्री की। उद्योग के अनुमान के अनुसार, स्थानीय बाजार में यात्री वाहन की बिक्री वर्ष में 8.7% से 3.2 मिलियन यूनिट तक बढ़ने का अनुमान लगाया गया था। मारुति सुजूकी का बाजार शेयर्स पिछले साल करीब 50% था, जबकि दूसरे स्थान पर हुंडई मोटर के 16.5% बाजार शेयर्स थे।

ऑटोमेटिव फोरकास्टिंग के अस्सोसीएट डायरेक्टर पुनीत गुप्ता ने कहा कि "पिछले कुछ सालों में, मारुति सुजुकी ने प्रीमियम हैचबैक और कॉम्पैक्ट स्पोर्ट्स यूटिलिटी वाहन सेगमेंट में नए उत्पादों को लॉन्च करके इनके बीच के अंतराल को सफलतापूर्वक दूर किया है जिसकी वजह से इन्हें इतनी सफलता प्राप्त हुई।"

Comments 0
Leave a Comment